Friday, December 3, 2010

Innovative SF and Mythology Mix to communicate S&T to Indian Masses

Innovative SF and Mythology Mix to communicate S&T to Indian Masses

Arvind Mishra
Secretary, Indian Science Fiction Writers’ Association
16, Cotton Mill Colony, Chowkaghat, Varanasi -221002
Uttar Pradesh, India

Manoj Mishra
Senior Faculty, VBS Purvanchal University ,Jaunpur
Uttar Pradesh, India


With the help of improvised cultural tableaux by judiciously blending sf and mythology during festivals like Durga Puja and Dussehra we successfully tried to attract illiterate Indian masses in order to communicate S &T perspectives and developments. Some model tableaux were as follows:
A. Tableau showing concept of Cloning: With the help of a mythological story popularly knows as ‘Raktbeej and Mahishasurmardini ’(Demon vis a vis a Hindu goddess Durga ) and sf extrapolations on cloning we explained the process and implications of the emerging technology to illiterate people .
B. Tableau of Biotechnology: The science fictional biotech tree akin to mythological 'wishing tree' (Kalpvriksh) demonstrated the hidden potentials of biotechnology.
C. Tableau depicting water harvesting technology: Traditional techniques of rain water harvesting and its necessity as narrated in Hindu myths notably the efforts of sage Bhagirath to bring the river of gods i.e. river Ganges on earth.
D. Tsunami Tableau : Awareness and preservation of natural mangroves is the key to safety from killer waves was demonstrated with the help of many catastrophe models as described in sf stories and myth of Lord of death i.e. Yamraj.
It was established that Sf stories with a judicious mix/blend of Indian myths could be effectively used through attractive tableaux to communicate science and technology to illiterate masses that do not have access to modern means of communication. A similar approach could be replicated in other parts of the globe.

Keywords: Improvised tableau/tableaux, S&T communication, science fiction and mythology.

India currently has the largest illiterate population of any nation on earth. Approximately 35% of world's illiterate population is Indian and based on historic patterns of literacy growth across the world, India may account for a majority of the world's illiterates by 2020.This is also the major group of people who do not have access to many modern means of knowledge communication .This poses a great challenge as how to communicate S&T effectively to these people.

Cultural tableaux are prominent crowd attractors during festivals like Durga Puja and Dussehra in India. Thousands and thousands of people throng to behold the glimpses of cultural India depicted through these tableaux. Our endeavor culminated in making beautiful and impressive tableaux which incorporated judicious blending of both cultural elements and science to easily attract lay people and then to spread the message of science spontaneously during these festivals .While science is purely an objective exercise, science communication entails the subjective /cultural perspectives also. So unless some cultural angle is not employed the mass communication of science in India shall remain largely less effective especially to illiterate people.

Impressed by imaginative and prophetic/visionary elements of Indian mythology with which even an ordinary uneducated Indian citizen is very familiar, we devised an experimental design combining mythology and sf in order to effectively communicate S&T among illiterate masses. By carefully amalgamating myth with certain breakthroughs and future possibilities in the field of biotechnology and other scientific disciplines as narrated in many sf stories we made attractive tableaux to lure the public and then inculcate amongst them the temper and wisdom of science .

Improvised tableaux were made on themes like cloning, trans-genetic crops, water harvesting technologies, tsunami etc with the help of professional and skilled artisans and were exhibited in Puja Mandap(earmarked places for tableaux exhibition) during the festival seasons . A feedback response was obtained from the people who visited these tableaux in order to ascertain the utility and importance of this innovative endeavor for popularization of science in eastern belt of U.P. Feedback forms drafted with aim to an easy comprehension by target groups contained 10 objective type questions covering a broad range of issues related to science communication. The analyses of feed-back response were done.

Results and Discussion
Science fiction as we know today is all about strange new ideas and imagery, i.e. the same elements which also characterize mythological stories. It's for this reason that SF/F buffs are usually tempted to draw analogies between science fiction and mythology. Both science fiction and mythological imaginations at times, anticipate scientific and technological developments. It is in the very nature of sf that it usually deals with the non-existent social set ups, technology and gadgetry, etc. making the genre quite analogous to myths since the latter is also known for its depictions/descriptions of imaginary things and people.

Indian mythology as contained in Hindu scriptures abounds in imaginative ideas and human values. Carl Sagan was very impressed and inspired by these sources of ancient knowledge. He once appealed sf writers to delve deep into Indian mythology to get original sf theme ideas.

Quite interestingly there are extrapolations, imaginative themes, and descriptions of gadgets often in contemporary sf and in Indian mythology alike. For example, Puspak Viman--a special kind of aero plane which possesses a vacant seat for any last minute VIP entrant! (Remember Rendezvous With Rama by Clarke?) Sudarshan Chakra (a kind of revolving disc) and arrows used by Lord Krishna to kill enemies returned back to them just after hitting the target (the same concept as in guided missiles!). In Maya Yuddhaa (some kind of virtual war) as described in the epic Ramayan while no real damage is done all enemy soldiers get frightened and surrender owing to horrible virtual projections and imagery of all sorts! Trishanku--a celestial body which is said to have been projected into space by an ancient sage Vishwamitra. An imaginative leap of our ancestors which indicates that the sky could be conquered by man one day! This legend in Indian mythology that Trisanku is hanging in the sky between the heaven and the Earth, though regarded as incredible, has fascinated one and all since time immemorial. Now we all know about the Lagrangian points which are the five positions in an orbital configuration where a small object affected only by gravity can theoretically be stationary relative to two larger objects (such as a satellite with respect to the Earth and Moon). In 1945, Arthur Clarke also wrote in an article published in Wireless World that placing three geostationary satellites (Compare Trisanku!) above the equator would revolutionize global telecommunication. A mythological idea that objects can be made to appear stationary above the Earth found a place in science fiction. In 1964 the first Trisanku (!), Syncom, with the generic scientific name geostationary satellite/geosynchronous satellite was placed above a fixed longitude on the equator, which explicitly justified the power of prophetic vision inherent in Indian mythology.

It was showed for the first time that science fiction can effectively teach science to lay people who do not have access to other forms of communicative broadcasts. Peggy Kolm has referred to this innovative approach in Biology in Science Fiction and also mentioned that in the U.S. there seem to be some teachers who are using science fiction books and movies - both with good science and with bad science - to teach basic scientific concepts.
In our study sample about 70% audiences were from villages and 20% were from slums of town/city surroundings and remaining 10% from small settlements who thronged to see the S & T tableaux erected/shown during the festivals. Tableau shows in question were significant in disseminating S & T knowledge intended for the target audience and were also useful in dispelling many orthodox beliefs as was evident by the replies recorded. Majority, i.e. over 90% viewers replied that they were having many misconceptions before observing these tableaux. 70% of the target viewers were of the opinion that the tableaux were most effective form of science communication for them. Only 20% had access to broadcast media i.e. Radio, T.V., cables etc. Majority opined that folk/cultural/traditional and public relation and interpersonal contacts were more effective for them to comprehend S&T related issues.

When audience were asked that whether they were convinced to help spread further the spirit of science, their responses were affirmative and they told that were fully convinced to spread the scientific knowledge in society after seeing these tableaux. When they were asked which scientific subject was more useful in their opinion 60% told it was biological/ medical Science, 15% were in favour of agricultural sciences and equivalent number of participants voted in favour of environmental sciences. Other remaining groups constituting 5% each opined that Earth/Physical Sciences and general sciences were more useful to them.

Authors express their grateful indebtedness to National council for science and technology communication ( NCSTC) for providing financial assistance to Shri Dwarikadhish Lok Sanskriti Avem Vanaspatiki Vikas Sansthan to conduct the aforesaid activities under the project entitled ‘science communication through cultural media’.
1. Peggy Kolm ,Using Science Fiction to Teach Science in India, , 2007
2. Patairiya Manoj ,Balancing between facts and fantasies ,Indian Journal of Science Communication ,Vol .7 (1) ,January –June 2008
3. "India has the largest number of illiterates in the world", Rediff, 2007-11-21,, retrieved 2009-11-27.
4. "India has a third of world's illiterates", Times of India, 2004-11-09,, retrieved 2009-09-20.
5. Mishra Arvind, SF Signal Mind Meld, What is going on right now in the international sf/f scene that anglophone readers might be missing out on?, 2009

Paper for consideration in 11th PCST

Friday, October 29, 2010

Innovative Science Fiction for S&T Communication-A Parallel Discussion Session in 11th PCST

Yes ,this is the topic for a parallel  session in forthcoming 11th PCST to be held in India and I have been given the responsibility of moderating the discussion.The idea of innovative science fiction sprang from some experiments in which illiterate people which did not have  access to prevalent forms of media were successfully lured to tableaux of sf and mythology mix themes  put in festivals .Indian psyche is very much familiar to imagery of mythological stories. Science fiction as we know incorporates  many elements similar to imagery's of mythological stories.Ursula K. Le Guin once quipped that sf is contemporary mythology.The abstract of the paper which is accepted for the  presentation and extrapolations of similar approaches to employ sf in popularization of science is pasted below-

Innovative SF and Mythology Mix to communicate S&T to Indian Masses

With the help of improvised cultural tableaux by judiciously blending sf and mythology during festivals like Durga Puja and Dussehra we successfully tried to attract illiterate Indian masses in order to communicate S &T perspectives and developments. Some model tableaux were as follows:

A. Tableau showing concept of Cloning: With the help of a mythological story popularly knows as ‘Raktbeej and Mahishasurmardini ’(Demon vis a vis a Hindu goddess Durga ) and sf extrapolations on cloning we explained the process and implications of the emerging technology to  illiterate people .

B. Tableau of Biotechnology: The science fictional biotech tree akin to mythological 'wishing tree' (Kalpvriksh) demonstrated the hidden potentials of biotechnology.

C. Tableau depicting water harvesting technology: Traditional techniques of rain water harvesting and its necessity as narrated in Hindu myths notably the efforts of sage Bhagirath to bring the river of gods i.e. river Ganges on earth.

D. Tsunami Tableau  : Awareness and preservation of natural mangroves is the key to safety from killer waves was demonstrated with the help of many catastrophe models as described in sf stories and myth of Lord of death i.e. Yamraj.

It was established that Sf stories with a judicious mix/blend of Indian myths could be effectively used through attractive tableaux to communicate science and technology to illiterate masses that do not have access to modern means of communication. A similar approach could be replicated in other parts of the globe.

Anyone interested could participate in discussion by registering him/herself for the conference .The deadline for registration is 31st inst. i.e. October,2010.  

Saturday, September 25, 2010

ज़ाकिर अली 'रजनीश' की विज्ञान कथा 'निर्णय'

क्या समाज में लड़की का जन्म लेना ही अपराध है? क्या लड़की पैदा होने के लिए सिर्फ स्त्री ही जिम्मेदार है? और क्या लड़की के जन्म को नियंत्रित किया जा सकता है? इन्हीं सवालों से जूझती एक सामाजिक विज्ञान कथा।
‘‘देखिए जरीना जी, आप एक बार फिर इस वैक्सीन (एक्स क्रोमोसोम डिजेनेरेटिंग फैक्टर आफ ह्यूमन) के बारे में सोचिए।’’ प्रभाकरन ने स्वयं पर गम्भीरता का नकाब डालते हुए कहा, ‘‘क्योंकि यह आपकी वर्षों की मेहनत और महती आकांक्षाओं का प्रश्न है। .......और फिर क्या जवाब देंगी आप अपनी उस बहन को, जिसे मरने के बाद भी शान्ति नहीं मिल सकी है। क्या आप यह चाहेंगी कि आपकी शेष बहनें भी....?’’

जरीना की वर्षों पुरानी दुखती रग पर हाथ रख दिया था प्रभाकरन ने। जरीना को लगा जैसे किसी ने गर्म लोहे की सलाख उसके दिल के आर-पार कर दी हो। पर बजाय घबराने के उसके शरीर में दृढ़ता आ गयी। उसका चेहरा चट्टान की तरह सख्त हो गया और आंखें इलेक्ट्रिक हीटर की दहक उठीं।

कांप सा गया प्रभाकरन। उसे अपनी गल्ती का एहसास हो आया। उसने सोचा कि अगर अब मैंने एक शब्द भी कहा, तो काम बनने की जगह बिगड़ ही जाएगा। अपने थुलथुल पेट के दाईं ओर सरक गयी टाई को ठीक करते हुए वह चुपचाप खड़ा हो गया और हिम्मत बटोर कर धीरे से बोला, ‘‘अच्छा, तो अब मुझे आज्ञा दीजिए। कल फिर मैं आपकी सेवा में उपस्थित होऊंगा। और आशा करता हूं कि तब तक आप वैक्सीन से सम्बंधित कोई ठोस निर्णय, जो व्यवहारिकता के धरातल पर खरा उतरता हो, ले चुकी होंगी।’’

कहने के साथ ही प्रभाकरन ने अभिवादन किया और नोटों से भरे ब्रीफकेस को वहीं पर छोड़कर कमरे से बाहर निकल गया। साथ ही छोड़ गया वह एक हाहाकारी तूफान, जिसमें से होकर जरीना को बाहर निकलना था और लेना था उसे एक ऐतिहासिक निर्णय, जो किसी महान क्रान्ति के संवहन का गौरव प्राप्त करने वाला था।

काफी देर तक जरीना उसी प्रकार बैठी रही। एकदम मूर्तिवत। यदि पलकों का उठना-गिरना बंद हो जाता, तो शायद यह पहचानना भी मुश्‍किल हो जाता कि वह किसी मूर्तिकार का परिश्रम है अथवा शुक्राणु और अण्डाणु के महामिलन का क्रान्तिकारी सुफल?

विचारों की सरिता में उठने वाले चक्रवातों ने कुछ ऐसी स्थिति उत्पन्न कर दी कि जरीना किसी निष्कर्ष तक पहुंचने में स्वयं को अस्मर्थ महसूस करने लगी। बिच्छू के जहर से बचने के लिए उसने अन्जाने में ही सांप को भी उत्तेजित कर दिया था। और अब उन दोनों के बीच वह निरूपाय सी खड़ी थी। आखिर जाए तो किधर? बस यही एक प्रष्न था, जिसका हल उसे खोजना था।

मध्यम वर्गीय परिवार में जन्मी जरीना को अपने मां-बाप की पहली सन्तान होने का गौरव प्राप्त था। जरीना के जन्म से भले ही उसके मां-बाप के अरमान पूरे न हो पाए हों, पर उसकी नानी की खुशी का पारावार न रहा। उसकी छट्ठी के दिन ही उन्होंने अपनी लाखों की दौलत जरीना के नाम कर दी। उन्हें तो जैसे जरीना के जन्म का ही इन्तजार था। तभी तो अपनी जायदाद के बोझ से मुक्त होते ही उन्होंने इस दुनिया से अपना बोझ भी कम कर दिया। लेकिन जरीना पर इससे कोई विशेष फर्क न पड़ा, सिवाए इसके कि वह नानी की गोद में खेलने के सुख से महरूम रह गयी थी।

अपनी वंश परम्परा बनाए रखने और कम से कम एक पुत्र का पिता कहलाने की चाह में फंसे जरीना के पिता हाकिम प्रतिवर्ष एक सन्तान को दावत देते रहे। लेकिन आश्चर्य कि उनके घर जन्म लेने वाली प्रत्येक सन्तान लड़की ही होती। प्रकृति के इस क्रूरतम (?) मजाक को हाकिम सहन न कर सके और उनका स्वभाव दिन-प्रतिदिन चिड़चिड़ा होता चला गया।

इसके बावजूद उन्होंने आशा का दामन नहीं छोड़ा। यह सोचकर कि शायद अगली बार उनकी मुराद पूरी हो जाए। पीरों-फकीरों की दुआएं काम कर ही जाएं। सो वे दांव पर दांव लगाते गये। लेकिन परिणाम वही ढ़ाक के तीन पात। और अन्त में एक दिन अपनी आठवीं पुत्री को जन्म देते समय जरीना की मां संसार को अलविदा कह गयीं।

मां की मौत का बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ा। घर की सारी व्यवस्थाएं चरमरा गयीं। हाकिम ने उन्हें संभालने का प्रयत्न किया और असफल होने पर अपनी मां की शरण में जा पहुंचे। दादी ने घर में आते ही मां की कमी पूरी कर दी। धीरे-धीरे सब कुछ सामान्य होने लगा। लेकिन लाख कोशिश के बावजूद भी वे सबसे छोटी लड़की को संभाल न पाईं। मां की कमी उसे बर्दाश्त नहीं हुयी और निमोनिया के बहाने वह इस संसार के कूच कर गयी। 

नानी ने अपनी वसीयत में यह व्यवस्था कर दी थी कि जब तक जरीना बालिग नहीं हो जाती, उसके पिता को जरीना के खर्च के लिए पूरा पैसा मिलता रहेगा। इस व्यवस्था का सुफल यह निकला कि अपने पिता की कोई बहुत अच्छी आर्थिक स्थिति न होने के बावजूद जरीना का लालन-पालन राज परिवार में जन्मी राजकुमारियों की तरह से हुआ। भले ही उसकी छोटी बहनें पर्याप्त मात्रा में दूध तक न पा सकीं, पर उसे कभी किसी चीज की कमी न हुयी। जब भी उसके मुंह से जो भी निकला, वह तुरन्त हाजिर हो गया।

हाकिम एक फैक्ट्री में बाबू थे। निश्चित तनख्वाह थी। आय का कोई ऊपरी श्रोत था नहीं, इसलिए धीरे-धीरे तंगई ने अपन शिकंजा कसना शुरू कर दिया। बच्चों को पढ़ाना तो दूर उनको सही ढ़ंग से खाना मिलना भी दूभर हो गया। और कोई रास्ता न देखकर हाकिम ने जरीना का नाम बोर्डिंग स्कूल में लिखवा दिया, जिससे कम से कम वह तो ढ़ंग से पढ़-लिख जाए। वैसे भी जरीना को घर में विशेष सुविधाएं मिलने की वजह से उसे अपनी बहनों से अलग रहने की आदत सी पड़ गयी थी, इसलिए हास्टल में उसे कोई विषेश परेशानी नहीं हुयी। वहां के माहौल में उसने जल्दी ही अपने आप को ऐडजेस्ट कर लिया और अपना सारा ध्यान अपनी पढ़ाई पर केन्द्रित कर दिया।

स्कूल के बाद कालेज और कालेज के बाद यूनीवर्सिटी। हाईस्कूल से लेकर एम0एस0सी0 तक की उसने सभी परीक्षाएं प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण कीं। जीव विज्ञान में पी0एच0डी0 का भी इरादा था उसका, पर घर वाले उस पर शादी करने के लिए दबाव डालने लगे। चूंकि शुरू से ही उसे अपनी मर्जी के मुताबिक कार्य करने की आदत सी पड़ गयी थी, इसलिए उसे यह फैसला स्वीकार्य न हो सका। बात जब काफी आगे बढ़ने लगी, तो एक दिन उसने स्पष्ट षब्दों में कह ही दिया, ‘‘शादी करना कोई बच्चों का खेल तो नहीं कि जब मां-बाप ने चाहा, डोली पर लाद दिया। जब तक मैं पी0एच0डी0 न कर लूं, शादी करना तो दूर, उसके बारे में सोच भी नहीं सकती।’’

जरीना भले ही कुछ भी हो, पर थी तो वह हाकिम की बेटी ही। और हाकिम को अपनी बेटी से ऐसी उम्मीद कतई न थी। हाकिम को लगा, जैसे किसी ने सीने पर हथौड़ा चला दिया हो। पर वे कर भी क्या सकते थे? एक के लिए वे छः-छः को बैठा कर नहीं रख सकते? सामाजिक मर्यादाओं और अपनी परिस्थितियों के दबाव में उन्होंने फैसला कर लिया कि जरीना चाहे शादी करे या न करे, वे अपनी दूसरी लड़कियों को तो निपटा ही देंगे। 

हालांकि हाकिम की आर्थिक स्थिति कोई बहुत अच्छी न थी और न ही उन्होंने कोई बहुत बड़ी सम्पत्ति संजो कर रखी थी। लेकिन फिर भी किसी तरह से उन्होंने अपनी कोशिशों को अन्जाम देना षुरू कर दिया। जैसा भी हाकिम से बन पड़ा, आश्चर्यजनक ढ़ंग से उन्होंने अपनी बेटियों की जिम्मेदारी का निर्वहन किया। तीसरे साल जरीना की पी0एच0डी0 पूरी होते-होते उन्होंने अपनी छठवीं बेटी की भी नैया पार लगा दी।

जेनेटिक इंजीनियरिंग में डाक्टरेट की डिग्री प्राप्त करने के बाद जरीना को सुकून मिला। हालांकि इसके लिए उसे अपने कीमती चार वर्ष होम कर देने पड़े। फिर भी वह पारिवारिक टेंशन, सामाजिक दबाव और मन के अन्तर्द्वन्द्व को झेलकर विजय श्री का मुकुट धारण करने में कामयाब हो ही गयी।

अपनी उपलब्धियों का जखीरा एकत्रित करने के बाद जब जरीना अपने परिवार की स्थिति का जायजा लेने बैठी, तो उसका मन बड़ा खिन्न हुआ। मरजीना और तहमीना की तथाकथित रूप से उम्र ज्यादा हो जाने के कारण उनकी शादियां ऐसे व्यक्तियों से हुयी थीं, जोकि उम्र में उनसे पन्द्रह-पन्द्रह साल बड़े थे और सिर पर विधुर का ताज लगाए हुए थे। 

सफीना ने तो प्रेम विवाह किया था, पर शायद ही कोई दिन ऐसा जाता हो, जब उसका पति पिटाई न करता हो। कारण वही पुराना, दहेज और सिर्फ दहेज। सकीना और शबीना की शादियां ऐसे घरों में हुयी थीं, जहां साल के बारहों महीने फाकाजनी का आलम रहता था। उनके पति चार दिन काम करते, तो सात दिन आराम। जब भूखों मरने की नौबत आ जाती, तो वे अपना होश संभालते। हां, सबसे छोटी आमिना की शादी जरूर अच्छे घर में हुयी थी। पर फिर भी उसे वह सब कुछ नहीं मिल पाया था, जिसकी वह हकदार थी।

एक दिन जरीना दोपहर के समय अपने कमरे में बैठी हुयी अखबार पढ़ रही थी। तभी उसे लगा कि मरजीना घर में मौजूद है। वह अपने कमरे से निकल कर बैठक में पहुंची, तो देखा कि वास्तव में मरजीना अपनी तीन छोटी-छोटी लड़कियों के साथ वहां उपस्थित है। उसके चेहरे के भाव बता रहे थे कि उसके साथ कोई बहुत बड़ी दुर्घटना हो चुकी है।

सलाम दुआ के बाद जैसे ही जरीना ने मरजीना के सिर पर स्नेह से हाथ फेरा, वह फफक कर रो पडी, ‘‘मैं कहीं की नहीं रही आपा। उन्होंने मुझे घर से निकाल दिया और दूसरी......’’ बाकी के शब्द उसकी सिसकियों के बीच ही कहीं गुम हो गये।

जरीना पर जैसे पहाड़ टूट पड़ा। उसने कांपते स्वरों में पूछा, ‘‘लेकिन क्यों?’’

‘‘क्योंकि मैं, मैं उनके खानदान का वारिस, एक लड़का नहीं पैदा कर सकी। मेरी कोख इस लायक नहीं हो सकी कि.....।’’

‘‘लेकिन इसमें तुम्हारा क्या कुसूर? इसके लिए तो वो जिम्मेदार है।’’ जरीना लगभग चीखी, ‘‘मैं तुम्हारे साथ यह नाइन्साफी नहीं होने दूंगी। आज ही मैं....।’’

मरजीना ने उसकी बात बीच में ही काट दी, ‘‘नहीं आपा, अब मैं वहां नहीं जा सकती। मैं इस घर के किसी कोने में पड़ी रहूंगी, पर उस दोजख में कभी नहीं जाऊंगी।’’ 

‘‘... ठीक है, जैसी तुम्हारी मर्जी।’’ जरीना ने भी अपने हथियार डाल दिये और अपने कमरे में लौट गयी। 

काफी देर तक जरीना बैठी हुयी यह सोचती रही कि आखिर मरजीना लड़का पैदा नहीं कर सकती, तो इसमें उसका क्या दोष? सन्तान के लिंग निर्धारण की सारी जिम्मेदारी पुरूषों के शुक्राणुओं पर निर्भर करती है। यह बात तो आज सभी जानते हैं कि स्त्री में सिर्फ एक्स प्रकार के अण्डाणु (ओवा) पाए जाते हैं। लेकिन पुरूषों के शुक्राणु (स्पर्म) एक्स और वाई दो प्रकार के होते हैं। 

गर्भाधान की क्रिया के दौरान जब पुरूष का एक्स शुक्राणु स्त्री के किसी अण्डाणु से निशेचन क्रिया करता है, तो लड़की पैदा होती है। लेकिन इस क्रिया में यदि वाई शुक्राणु कामयाबी का सेहरा पहनने में कामयाब हो जाए, तो पैदा होने वाली सन्तान लड़का होता है। चूंकि सामान्यतः पुरूष के एक्स शुक्राणु वाई की अपेक्षा कुछ हल्के होते हैं, इसलिए वे इस काम को सम्पन्न करने में कुछ ज्यादा सफल होते हैं। ....लेकिन रूढ़िवादिता से क्रस्त पुरूषों को यह बात समझाए तो कौन? 

इस सवाल के जाल में जरीना कुछ ऐसी उलझी कि उसे शादी जैसे उपक्रम से ही घ्रणा हो गयी। उसने यह फैसला किया कि वह जीवन भर शादी नहीं करेगी। क्योंकि दलदल से बचने का सबसे अच्छा उपाय तो यही है कि उस ओर जाया ही न जाए। 

हाकिम ने जब बेटी का फैसला सुना, तो अवाक रह गये। लेकिन अब उनमें इतनी हिम्मत न बची थी कि वे जरीना को समझाकर और तथाकथित रीतिरिवाजों का वास्ता देकर उसे शादी के लिए राजी करवा सकें। अतः इस समस्या के हल के लिए वे अपनी मां की शरण में पहुंचे। उन्हें उम्मीद थी कि शायद वे जरीना को उसके औरत होने का एहसास करा सकें और लाद सकें उस पर शादी का बोझ, जिसकी परम्परा सदियों से चली आ रही है।

लेकिन दादी भी जरीना के तर्कों के आगे टिक न सकीं। उसकी बातों को सुनकर वे एकदम सन्न रह गयीं। आजकल की लड़कियों की हिम्मत तो देखो, शादी से ही इनकार? ये कयामत के आसान नहीं तो और क्या है? लड़की का दिमाग फिर गया है। और दो उसे इतनी छूट? दिन भर घर के बाहर मंडराएगी, गैर मर्दों के साथ घूमती फिरेगी, तो और क्या होगा? अब तो इस घर की इज्जत को रब्बुलपाक ही बचाए! 

बड़बड़ाते हुए दादी जैसे ही जीने से नीचे उतरने लगीं, हड़बड़ाहट में उनका पैर फिसल गया और वे धड़ाम के साथ नीचे आ गयीं। खण्डहर से जर्जर शरीर में इतनी ताब न बची थी कि वह सिर पर लगी मामूली से चोट को बर्दाश्त कर पाता। अतएव अत्यधिक खून बह जाने के नाम पर उनकी वहीं पर मौत हो गयी।

जरीना और हाकिम के बीच जो दूरी जरीना की नानी की जायदाद ने पैदा की थी, दादी की मौत ने उसे और बढ़ा दिया। हाकिम ने सीधे-सीधे जरीना को अपनी मां की मौत का जिम्मेदार मानते हुए उससे एक तरह से किनारा ही कर लिया। रहते तो वे एक छत के नीचे जरूर थे, पर बिलकुल अजनबी की तरह। न बाप को बेटी से कोई मतलब और न बेटी को बाप से कोई सरोकार। 

धीरे-धीरे समय का पहिया एक वर्ष आगे खिसक गया। अचानक एक दिन सूचना मिली कि सफीना ने अपनी दो बेटियों के साथ आग लगाकर आत्महत्या कर ली है। सफीना उनकी सबसे लाडली बेटी थी। उन्हें पूरा विश्वास था कि वह ऐसा नहीं कर सकती। जरूर उसे उसकी ससुराल वालों ने जला दिया होगा। यही सोच-सोच कर वे एकदम विछिप्त हो गये। 

अक्सर वे चीख पड़ते, ‘‘नहीं-नहीं, उन लोगों ने मेरी बेटी को जिंदा जला डाला। वह उनके लिए एक लड़का नहीं पैदा कर पाई न, इसलिए उन कमीनों ने मेरी बच्ची ...... सफीना को ...... जला दिया। खून कर दिया उन लोगों ने सफीना और उसकी मासूम बच्चियों का। वे खूनी हैं। मैं उन्हें जिन्दा नहीं छोडूंगा। एक-एक को फांसी दिलवाऊंगा।’’

जरीना को भी पूर विश्वास था कि सफीना और उसकी बेटियों की आग लगाकर हत्या की गयी है। उसने सफीना की ससुराल वालों के विस्द्ध अदालत में हत्या का मुकदमा दायर कर दिया। पानी की तरह पैसा बहा, अदालत के सैकड़ों चक्कर लगे, लेकिन इसके बावजूद जरीना ऐसा कोई सबूत न पेश कर सकी, जिससे साबित होता कि सफीना की ससुराल वालों ने उसकी व उसकी बेटियों की हत्या की है। और अन्ततः वही हुआ, जो होना था। सफीना की ससुराल के सभी लोग बाइज्जत बरी कर दिये गये।

इस अनचाहे दर्द से जरीना तड़प कर रह गयी। क्रोध आने लगा उसे अपनी विवशता पर। कितना सड़ गया है हमारा यह समाज, जहां कातिलों को सजा तक नहीं दिलाई जा सकती। वाकई कितना विकृत है इस दुनिया का यथार्थ?

इस सदमें ने जरीना को एकदम तोड़ दिया। खीझ कर उसने स्वयं को अपने आप में कैद कर लिया। न खाने की चिन्ता, न पीने से मतलब। रात-रात भर वह जागती रहती। जब कभी घड़ दो घड़ी के आंख लगती भी, तो उसे सपने में सफीना ही नजर आती। आग से घिरी सफीना, अपनी बच्चियों को गोद में चिपटाए, बेबस।

हमेशा की तरह आधी रात बीत जाने के बाद जब जरीना की आंखें लगीं, तो उस रोज भी सफीना वहां मौजूद थी। झुलसा हुआ चेहरा, एकदम काला, बेहद डरावना। जरीना स्तब्ध रह गयी। धीरे-धीरे चेहरे में हरकत हुयी। उसके होंठ कांपे, ‘‘जानती हो आपा, हमारा ये हाल क्यों किया गया?’’ 

एक क्षण के लिए जरीना जुर्म साबित हो चुके अपराधी की भांति शान्त रही। फिर धीरे-धीरे उसने अपनी शक्ति को एकत्रित किया और कांपते स्वरों में बोली, ‘‘जानती हूं, तुमसे अच्छी तरह से।’’

‘‘फिर आप कुछ करती क्यों नहीं?’’ सफीना का स्वर तेज हो गया, ‘‘इससे पहले कि यह घटना किसी और के साथ दोहरायी जाए, आपको कुछ करना ही होगा।’’

‘‘लेकिन क्या कर सकती हूं मैं ?’’ 

‘‘क्यों, आप तो पढ़ी-लिखी हैं। डाक्टरी पास की है आपने।’’

‘‘ ...............’’

‘‘क्या आप ऐसी कोई दवा नहीं बना सकतीं, जिससे लड़का पैदा किया जा सके ?’’

‘‘नहीं सफीना, ऐसा नहीं हो सकता। वो तो सब प्राकृतिक.........’’ 

‘‘क्यों नहीं हो सकता आपा? क्यों नहीं? इंसान चाहे तो क्या नहीं कर सकता? सिर्फ हौसला और लगन होनी चाहिए। .....और फिर आपको ऐसा करना ही होगा। अपनी दूसरी बहनों को दर्दनाक मौत से बचाने के लिए आपको ऐसी दवा बनानी ही हागी। नहीं तो आपकी सारी बहनें इसी तरह एक-एक करके मौत के घाट उतार दी जाएंगी और आप कुछ भी नहीं कर पाएंगी।’’

सफीना का स्वर गूंजता चला गया। और जब शोर हद से ज्यादा बढ़ गया, तो उसकी निद्रा भंग हो गयी। वह हड़बड़ा कर बिस्तर पर उठ बैठी। उसके बाद फिर उसे नींद नहीं आयी। सारी रात उसके कानों में सफीना की बातें गूंजती रहीं। 

उस स्वप्न ने जरीना की सोच को एकदम बदल दिया। हमेशा गुमसुम सी रहने वाली जरीना के पास अब एक उद्देश्य था। उसे एक ऐसी दवा का निर्माण करना था, जो पुरूषों के वाई शुक्राणुओं को अधिक क्रियाशील बना सके। और अगर वह इस काम में सफल हो गयी, तो एक पुत्र के लिए अपने घरों में लड़कियों की लाइन लगा देने वाले और लड़का पैदा न होने की दषा में अपनी पत्नी के घर निकाला दे देने वाले लोग इस पाप से मुक्ति पा सकेंगे।

जेनेटिक इंजीनियरिंग में पी0एच0डी0 की डिग्री प्राप्त करने वाली जरीना ने अपना सारा ध्यान इसी पर केन्द्रित कर दिया। क्योंकि अगर इस दिशा में कुछ हो सकता था, तो उसकी सारी सम्भावनाएं जेनेटिक इंजीनियरिंग की रिकाम्बिनैन्ट पद्धति में ही निहित थीं। 

लगातार दस वर्षों तक पुस्तकों और अपनी निजी प्रयोगशाला में सिर खपाने के बाद जरीना को मंजिल तक पहुंचने का सूत्र मिल ही गया। और वह सूत्र था लैम्डा फेज वाइरस। इस वाइरस की सहायता से जरीना ने एक्स क्रोमोसोम डिजेनेरेटिंग फैक्टर आफ ह्यूमन वैक्सीन तैयार की, जोकि एक प्रकार की क्लोन्ड जीन थी। 

लेकिन जब इस वैक्सीन के परिणाम सामने आए, तो जरीना कांप उठी। जिस व्यक्ति के शरीर में यह वैक्सीन एक बार पहुंच जाती, उसके शरीर के समस्त एक्स प्रकार के शुक्राणुओं को नष्ट कर देती। इसके साथ ही साथ भविष्य में भी उस व्यक्ति के शरीर में बनने वाले एक्स शुक्राणु निश्क्रिय ही रहते। यानी कि जिस व्यक्ति ने एक बार इस वैक्सीन का प्रयोग कर लिया, तो फिर वह व्यक्ति जिंदगी भर किसी लड़की का पिता नहीं बन सकता था। 

खन्दक से बचने के प्रयास में अन्जाने में ही खाई का निर्माण हो चुका था। यदि यह वैक्सीन बाजार में आ जाती, तो पुत्र-मोहान्ध पुरूषों की बदौलत बिक्री के सारे रिकार्ड तोड़ डालती। चूंकि समाज में लड़कियों का पैदा होना ही आमतौर पर एक बोझ मान लिया जाता है, इसलिए कोई भी पुरूष इससे दूर न रहना चाहता और परिणाम की चिन्ता किए बिना ही वैक्सीन का उपयोग कर डालता। ऐसी दशा में समाज की बनावट में भारी उलटफेर हो जाता और उसका सारा ढ़ाँचा ताश के पत्तों की तरह बिखर जाता। 

वैक्सीन के सहारे जन्मी लड़कों की खेप भले ही विशेष प्रभावों के कारण वर्णान्धता रोग से दूर रहती, पर जब वह अपनी युवावस्था में पहुंचती, तो उनके जीवन साथी की तलाष आकाश के तारे तोड़ लाने से भी दूभर प्रक्रिया बन जाती। ऐसी स्थिति में उन लोगों के घर जन्मी लड़कियां, जिन्होंने वैक्सीन का प्रयोग नहीं किया था या जिनके हिस्से नकली वैक्सीन आई थी, परमाणु बम से भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जातीं। शायद लड़के वाले अपनी बहू लाने के लिए उल्टे लड़की वालों को दहेज देना प्रारम्भ कर देते। तब शायद लोग पांडव स्टाइल में पांच-पांच ही नहीं बीस-बीस या पचास-पचास मिलकर एक पत्नी रखते। स्थिति यहां तक बिगड़ती कि लड़कियों का व्यापार होने लगता और उनका घर से निकलना तक मुश्‍किल हो जाता। 

...और तब ऐसी भयानक स्थिति में शायद किसी वैज्ञानिक को वाई0सी0डी0एफ0एच0 वैक्सीन का निर्माण करना पड़ता, जिसको प्रयोग कर पुरूष सिर्फ लड़कियों को जन्म देते। ऐसी दशा में समाज दो ध्वंसात्मक वर्गों में बंट जाता, जिसके शैतानी पंजों से निकल पाना बिलकुल असंभव सा हो जाता।

कट्टरता कभी भी किसी भी समाज के लिए कल्याणकारी नहीं हो सकती, चाहे वह विचारों की हो या फिर वैक्सीन की। लेकिन वैक्सीन तो बन चुकी थी। और न जाने कैसे यह खबर भारत के सबसे बड़े दवा निर्माता प्रभाकरन तक जा पहुंची। प्रभाकरन एक सफल व्यवसायी के साथ-साथ एक कुशल मनोविज्ञानी भी था। जरीना का पूरा इतिहास जानने के बाद वह उससे मिलने के लिए उसके घर जा पहुंचा। अपना परिचय देने के साथ प्रभाकरन ने जरीना के उन सभी मर्म स्थलों पर चोट पहुंचानी शुरू कर दी, जिनकी वजह से वह वैक्सीन निर्माण की ओर उन्मुख हुयी थी।

..और जब लोहा पूरी तरह से गर्म हो गया, तो उसने चोट करने में देर नहीं की। आकर्षक कमीशन के प्रस्ताव के साथ पेशगी के तौर पर सौ-सौ की नोटों से भरा 21 इंची सूटकेश जरीना की खिदमत में पेश किया गया।

प्रभाकरन को विश्वास था कि जरीना को तोहफे में पेश किया गया सूटकेश वैक्सीन के सूत्र को उस तक लाने में कामयाब हो जाएगा। वह वैक्सीन वास्तव में उसके लिए कुबेर के खजाने की चाबी साबित होने वाली थी। और एक बार जहां उसे वह चाबी मिल गयी, फिर उसे भारत का सबसे बड़ा अमीर बनने से कोई नहीं रोक सकता।

दूसरे दिन जब प्रभाकरन जरीना के घर पहुंचा, तो वह प्रतीक्षारत मिली। कुर्सी पर बैठते ही प्रभाकरन मुस्कराया, ‘‘मैं समझता हूं कि आपने वैक्सीन के सम्बंध में अपना निर्णय ले लिया होगा।’’

कहने के साथ ही उसने जरीना की ओर एक चेक बढ़ाया, ‘‘ये रहे मेरी तरफ से एडवांस, मात्र बीस लाख रूपयों का चेक। बाकी के अस्सी लाख आपको कांट्रैक्ट पर साइन करने के साथ ही दे दिए जाएंगे। इसके अलावा बिक्री प्रारम्भ होने पर प्राफिट पर पच्चीस प्रतिशत कमीशन आपको हर माह मिलता रहेगा।’’

जरीना चुपचाप बैठी रही। उसके भीतर अन्तर्द्धन्द्ध छिड़ा हुआ था। एक तरफ सफीना की दर्दनाक मौत, दस साल की कड़ी मेहनत, नोटों का अम्बार, और दूसरी तरफ इंसानियत और समाज। चुनना तो उसे एक ही था। उसके एक फैसले पर समाज की गति निर्भर करने वाली था। सिर्फ एक ‘हां’ से पूरे समाज का ढ़ांचा ही बदल जाता और छिड़ जातीी एक महान क्रान्ति, जो किन्ही अर्थों में द्वितीय विश्व युद्ध से भी भयानक होती।

जरीना की स्थिति सम्मोहित व्यक्ति की सी हो गयी थी। जैसे उसकी सोचने-समझने की शक्ति ही समाप्त हो गयी हो। बस जो सामने वाला चाहे, वह होता चला जाए। मौके की नजाकत के विशेषज्ञ प्रभाकरन ने एक पतली सी मुस्कान बिखेरते हुए कांट्रैक्ट फार्म आगे कर दिया, ‘‘लीजिए जरीना जी, प्लीज आप यहां पर साइन कर दीजिए।’’

बिना किसी प्रतिवाद के जरीना ने फार्म उठा लिया। प्रभाकरन का दिल खुशी के मारे बल्लियों उछलने लगा। उसे लगा कि अब दिल्ली दूर नहीं। अब उसके पास होगी अरबों की दौलत। और वह होगा हिन्दुस्तान का सबसे बड़ा उद्योगपति। 

पर तभी जरीना को अचानक न जाने क्या हुआ? देखते ही देखते उसने कान्ट्रैक्ट फार्म के चार टुकड़े कर दिए। उसका चेहरा चट्टान की तरह सख्त हो चुका था। इससे पहले कि प्रभाकरन कुछ समझ पाए, जरीना के होंठ हिले, ‘‘माफ कीजिएगा प्रभाकरन जी, चंद नोटों के लिए मैं अपने समाज की खुशियाँ नहीं बेंच सकती।’’ कहते हुए जरीना ने सूटकेश को मेज पर पटका और कमरे से बाहर निकल गयी।
'इण्डिया टुडे' ने वर्ष 1996 में राष्ट्रीय स्तर पर युवा कथाकार प्रतियोगिता का आयोजन किया था, जिसमें नारीवादी चेतना पर आधारित यह विज्ञान कथा द्वितीय स्थान पर चुनी गयी थी।

Saturday, August 7, 2010

An SF Event in India

Karthik Purushothaman is a second year student of Aerospace Engineering in the Indian Institute of Technology, Madras. He is coordinating   a grand gala event of sf named  'solaris' along  with a  Science Fiction writing contest on  the occasion of his  institute's tech-festival, 'Shaastra 2010'.Details could be accessed on the following links provided by the IITean /SF aficionado  himself.
Event has  two competitions -one online and one on the spot.

He briefed me about these events and told that the  contest's spot events are due in between  the 2nd and 5th of October, 2010, and the accompanying online event has a deadline of the end of September. He is in frantic search of an expert of repute for  judging the On-Spot contest (which might/might not require his  presence at Chennai) in addition to the    Mike Resnick and Jim Kelly as established judges for Online Event . .he is very much concerned, and genuinely so to search for the ways  to bring in higher participation to this event.And he has sought my help regarding it .
Please help him in his crusade to promote the genre in India . 

Sunday, March 21, 2010

Mainstream and Genre SF: Emergence and Trends in Hindi vis a vis Western Literature

Mainstream and Genre SF: Emergence and Trends in Hindi vis a vis Western Literature
Arvind Mishra 
Indian Science Fiction Writers Association
16, Cotton Mill Colony
Chowkaghat ,Varanasi-221002
It would be perhaps worthwhile to get familiarize with the terminologies and abbreviations used in the write-up first and then begin a focused discussion on the topic. Literary academics usually indulge in discussions pertaining to the term ‘genre’ which in fact is indicative of a group of literary works having common defining characteristics. For example .in the mystery it is crime, in science fiction it is an extrapolated technology or social system. There are many other recognized genres as well: humour, history, romance, mystery, fantasy, horror, suspense, action .etc. 

  Sf is either labeled science fiction purposefully by some authors or written by so called mainstream writers but seldom mentioned as sf. The term ‘genre sf is used to denote that science fiction which is either labeled as science fiction or the one which is instantly recognized by its audience as belonging to that category or both.(Clute and Nicholls,1995) . Mainstream can technically refer to anything that is not a defined genre/category. It is indicative of the tradition of realistic fiction and encompasses all serious prose fiction. 
It could further be stated that a conscious author of genre sf is very well aware of working within a particular genre which contain certain habits of thought ,certain ‘conventions’ of rules of story telling. .Many different genres could also be easily identified by the fact that they have their own separate sections in the bookstores. The stuff that is under the general fiction sections of the bookstores is considered mainstream fiction. Mainstream is also used sometimes by some people as a synonym for "commercial," which is used to differentiate books like ’Discovery of India’ by Pt. Jawahar Lal Nehru and many other well known titles. Thus when the term "mainstream,” is used it basically refers to non-genre fiction, which is the most common definition of the term. As we know there are ‘subgenres ’also within a genre and common sub-genres in science fiction are: hard science fiction (lots of science,) soft (sociological) sf (focused on social and cultural issues,) detective sf, comic sf, science fantasy, and cyberpunk (Cyborg, man –computer interface stuff) etc.
Early writings in Hindi sf appears to have been mainly a mainstream endeavour .The first sf,  ‘Aaschry Vrittaant’ (A Strange Tale) was written by Ambika Datt Vyas and was published in a mainstream Hindi magazine “Peeyush Pravah’’during  1883 -1884 as a serial story. This perhaps was a trend setter to herald an entirely a new kind of fictional literature hitherto unfamiliar to mainstream Hindi literati. The trend continued with more of such literature which were no doubt inspired by the similar western stuff then in vogue in USA and UK. A famous Hindi literary popular mainstream  magazine ‘Saraswati ’published a story in its part -1,no-6,issue entitled “Chandrlok ki Yatra”(A Journery to Moon ) written by Babu Keshav Prasad Singh along with a Hindi prose story which was later claimed to be the first modern  prose story  .of  Hindi literature. The “Chandrlok ki Yatra” was of course inspired by Jules Verne’s “Voyages Extraordinaire” .Later more stories were published in ‘Saraswati ‘ prominent of these being “Aaschryjanak Ghantee’’ ( A call bell wonder ) in 1908 written by Satyadev Parivrajak But most significant contribution was made by a famous littérateur of the era named Rahul Sankrityayan who in 1924 published an sf novel entitled , “Baayisaveen  Sadi ”(Twenty  Second Century ) .This was an original sf in true sense most similar to today’s genre sf but was published and promoted as a mainstream Novel. Some other famous litterateurs of that period viz, Achaary Chatursen Shastree , Sampooranand  wrote sf stories disguised as mainstream literature. 

It is thus evident that the early sf writings in Hindi were being marketed as simply fiction without adhering to the label of sf. Interestingly they were doing it innocently as the term science fiction barely existed till 1930’s even in the countries where the genre was born. Even western writers were not aware of it .Most of the well known litterateurs of the western world did not publish their works as genre sf till 1940’s.Aldous Huxley wrote his famous sf novel ‘Brave New World’ (1932) for mainstream media and not for any genre category. It could be argued though that genre sf existed ever since Hugo Gernsback founded ‘Amazing Stories ‘ in 1926 but it was still a miniscule genre not much publicized. Genre sf came out to be a post -1937 phenomenon when John W Campbell Jr. took over the editorship of ‘Astounding Fiction’ .Onwards, genre sf undeniably became established as a new/known form of literature. Sf that existed till then was all mainstream sf like the works of even H.G.Wells and Jules Verne. H.G. Wells even coined a term –“Scientific Romance” which certainly qualified to an sf like tradition.
A paradigm shift in attitude to promote Hindi sf as a mainstream literature only seems to have emerged with the writings of Naval  Bihari Mishra(NBM) and Yamunadatt Vaishnav Ashok (YVA) beginning from 1930’s .The duo repeatedly pin pointed that the stories being written by them belonged to a special genre called science fiction /fantasy. Naval Bihari Mishra while promoted sf in its contemporary original western form, Yamuna Datt Vaishnav Ashok should be credited for inculcating what should be called ‘Indianness ‘in his stories. He successfully did it with careful introduction of local locations, familiar protagonists and the plot development. But he meticulously planned and dealt with innovative sci fictional theme- contents in his stories. It was his dexterity of writing skill that he maintained both the ‘Indianness’ and scientific romance together in his stories. 

A detailed account of his publications is available elsewhere. It was with the collective efforts of NBM and YVA only that genre sf emerged and soon got recognized amongst Hindi literati.  After 1980’s the visibility of two distinct waves appears to be quite distinct, first being the traditional mainstream sf wave of course not labeled as sf and with its sporadic appearance from time to time and another genre sf as a regular feature of Hindi science magazines like Vigyan Pragti , Vigyan ,Vaigyanik, Garima Sindhu ,Vigyan Gnaga and Awishkar .But owing to reasons better known to its publishers Awishkar has lately discontinued the publication of genre sf. The popular Hindi magazines which published mainstream sf included Saaptaahik Hindustan ,Dharmyug ,Sarika, Navneet etc. But except Navneet the other magazines have ceased their publications long back. This has regretfully dampened the scope of mainstream sf  in Hindi lately. But it’s a good omen that genre sf is now being recognized and accepted as form of serious literature though only to selected Hindi audience. Vigyan Pragati (C.S.I.R) should be credited for publishing genre sf as a regular feature till date , since the  praiseworthy initiative taken by its editor Bal Phondke during 1990’s.

But genre sf is yet to win full academic acceptance amongst Indian literati especially in Hindi literature   (although it is getting closer of late for reasons which give no credit to the academy).The psychology behind the attitude seems to be the dismissive nature of literary-critical rhetoric against the genre. The harsh truth being that it is very easy to try to raise oneself up by knocking others down. It’s the self-appointed conservator of literary taste, in literary criticism, who remains deliberately most critical in their attitude towards sf in general and genre sf in particular. Science fiction is still struggling to attract the attention of mainstream literati. It is still looked down with contempt and ridicule by a group of self appointed and so called great connoisseurs of Hindi literature.

There is also a growing worldwide tendency these days to insinuate sf into mainstream fiction. It makes some people a bit skeptical to think that the tendency may harm the genre sf and its purity and quality may ultimately suffer with the inception of so many well known and stated weaknesses of mainstream literature. But I feel there's a snobbery going on, that if SF is to make it into mainstream markets then it had better be of an artistically vague nature, that somehow good literature cannot come from a more "hard core" approach. In all humility I must submit that a good sf could qualify for mainstream media as it too possesses potential and capacity to allure large readership. So the demarcation/divide in sf and mainstream literature is nothing but the reflection of a kind of snobbery exhibited by so called literary pundits .The divide hopefully would vanish with more intellectual inputs in mainstream media made by ever growing numbers of sf writers in Hindi .In a personal conversation Greg Bear assured me and said. “I quite agree, Dr. Mishra. The more technically and scientifically trained people there are in India--and there are already a great many!--the more accepted science fiction will become.”(

(Paper presented in 11th Indian Sci Fi Conference held in Aurangabad,2009.)

Sunday, February 21, 2010

द बीस्ट विथ नाईन बिलियन फीट -एक समीक्षा

द बीस्ट विथ नाईन  बिलियन फीट
( साईंस फिक्शन उपन्यास )
उपन्यासकार  -अनिल मेनन
यंग जुबान प्रकाशन (२००९)
१२८ बी ,शाहपुर जाट 
नई दिल्ली 
मूल्य -२९५,पृष्ठ -२५९

अनिल मेनन की 'द बीस्ट विथ नईं बिलियन फीट ' एक हैरतंगेज नईं दुनिया 'की कहानी है जो २०४० में वजूद में आती है .इस दुनिया की जो दहशतनाक परिकल्पना उपन्यास में प्रस्तुत हुई है उसके मुताबिक़ वह दुनिया होगी  जीन परिवर्धित /संशोधित मानवों की जो तब तक निश्चित ही नौ अरब तक का आंकड़ा छू  रहे होंगे -यह उपन्यास एक विज्ञानं कथा प्रेमी को निश्चित ही आल्डुअस हक्सले की कालजयी कृति ब्रेव न्यू वर्ल्ड की याद दिलायेगी और उसी सोच के एक विस्तारित नए और आधुनिक /समकालीन संस्करण के रूप में अपना छाप पाठकों पर छोड़ेगी . जीवों को जीन में परिवर्तन से उनमें मनोवांछित तब्दीली  अब हकीकत में बदल  चुकी हैं  -जेनेटिकली माडीफायिड  आर्गेनिजम(जी एम ओ ) अब तरह तरह के रूपं रंग में हमारे जन जीवन का हिस्सा बनने लगे हैं -खाने के मेज तक उनकी पहुँच हो रही है और   शायद  शयन कक्ष भी उनसे जायदा दूर नहीं रह गया है .....मतलब वे अब मनुष्य की दैनंदिन जिन्दगी का हिस्सा बनते जा रहे हैं .

अगर यह सिलसिला निर्बाध चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब डाली सरीखे पशु -पक्षी ही नहीं मनचाहे गुणों अवगुणों वाले मनुष्यों के  जीन संवर्धित रूपों के निर्माण को भी हरी झंडी  मिल जायेगी -अनिल मेनन जो एक जाने माने विज्ञान कथाकार हैं इसी मुद्दे को अपने इस पहले उपन्यास की थीम बनाते हैं .उपन्यास की लोकेशन भारत  के पुणे शहर से लेकर उत्तरी ध्रुव से करीब ढाई हजार किलोमीटर की दूरी  पर स्वीडेन में बसाये जा रहे एक नए शहर नुर्थ (न्यू अर्थ ) तक फैली हुई है -वह क्षेत्र हिमाच्छादित है और उपन्यास का एक प्रमुख पात्र आडी (आदि) जो मनुष्य के जीनीकरण का आरम्भ है (अतः आदि! ) कथा के अंत तक भी उपन्यास के आकर्षण /विकर्षण का केंद्र बिंदु बना रहता है .वहीं वह एक भयंकर दुस्वप्न देखता है -जैसे कोई नौ अरब आँखों ,ह्रदय और पैरों वाला राक्षस (जीन संवर्धित दानवता!  ) बढा चला आ रहा है उसकी ओर और एक  महिला पात्र विस्पला उसे विनष्ट करने को आगे बढ रही है -यह  दृश्य -प्रतीति देवी दुर्गा द्वारा महिषासुर मर्दन के भारतीय मिथक सा है जिसे उपन्यासकार ने जानबूझकर या अनजाने ही चित्रित कर  दिया है .शायद  इसलिए कि वह भी एक  हिन्दू मनसा  भारतीय है जिसके अवचेतन पर भारतीय  मिथकों का प्रभाव है ही ....याद है मेरी शेली के 'फ्रैकेंनस्टीन' में भी डॉ. फ्रैंन्केंस्टीन का प्रयाण स्थल एक ऐसा ही बर्फीला लैंडस्केप रहता है जहां उपन्यास का केन्द्रीय दानव पात्र वहां प्रगट होता है ?क्या आदि के स्वप्न के भयंकर और भयावने दानव का भी समान  बर्फीले लैंडस्केप में प्रगट होना रचनाकार के एक दूसरे अवचेतन के लिपि बद्ध होते जाने का संयोग मात्र ही  तो नहीं  है ?

उपन्यास पात्र बहुल है -पढ़ते वक्त कभी कभी थोड़ी खीझ भी होती है और आश्चर्य भी कि इतने पात्रों के चरित्र -चित्रण का निर्वाह उपन्यासकार कैसे कर पायेगा -मगर कहानी के अग्रसर होने पर सहज ही  पात्र कम होने लगते हैं .सिवान भाऊ मुख्य चरित्रों में से हैं जो जीन संवर्धन प्रयोगों को 'मुक्त सोर्स' बनाए रखने के हिमायती हैं और सक्रिय राजनीति में उतर आते हैं -राजनीतिक  विद्वेष के शिकार होते हैं मगर फिर अपनी मनमाफिक पार्टी के पुनः  सत्ता में आने पर प्रतिष्ठित हो जाते हैं -उनकी धुर विरोधी महिला  पात्र विस्पला जो "शुद्ध जीन " अभियान की जनक है वह जीन संवर्धित सामानों को उपभोक्ताओं तक पहुँचाने में व्यावसायिक हितों को भी देखती है -वह एक दूसरे प्रोजेक्ट पर भी काम करती है जिसमें मनुष्य की प्रतिरक्षा प्रंणाली को उद्वेलित कर उसकी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया पर विराम लगाने की जुगत है .और इस स्वप्न को चरितार्थ करने के लिए वह सिवान भाऊ को जिम्मा देती हैं मगर सिवान भाऊ इस परियोजना से हाँथ खींच लेते हैं क्योकि उन्हें ऐसा आभास हो जाता  है कि इससे मनुष्य की बौद्धिकता ,उसके संज्ञात्मक शक्ति,भावनाओं पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है .आदि ,सिवान भाऊ का एक ऐसा ही हतभाग्य पुत्र है जिस पर उनके द्वारा गर्भावस्था के दौरान प्रयोग परीक्षण किया गया था -सिवान भाऊ इस तरह एक तरह से ग्लानी बोध से ग्रस्त हैं  और इस तथ्य का खुलासा होने पर आदि भी अपने पिता के प्रति विद्रोह कर उनके धुर विरोधी विस्पला का दामन थाम लेता है .

जी हाँ ,पात्रों की तो भरमार है -आदि, तारा भाई -बहन ,रिया और फ्रैंसिस विस्पला के कोखज  नहीं केवल अंडज और जेनेटिकली माडीफायिड पुत्र -पुत्री ,सिवान भाऊ का चहेता पुलिस अधिकारी प्रणय ,सिवान की पत्नी उषा ,संस्कृत अध्यापक अय्यर जी,सिवान की बहन सीता तथा और भी ढेर सारे गौण और मुखर पात्र - ये सब उपन्यास में आते रहते हैं और कथानक आगे सरकता रहता है कभी मंथर तो ज्यादातर तीव्र गति से .....लेकिन जिस कुशलता और सिद्धहस्तस्ता से उपन्यासकार ने इन ढेर सारे पात्रों को कथानक में बुना है वह काबिले तारीफ़ है .

साईंस फिक्शन की पृष्ठभूमि पाठकों के लिए काफी अनचीन्ही होती है क्योकि वह मौजूदा दुनियां से ताल्लुक नही रखती है -इस उपन्यास में भी उपन्यास के विभिन्न लैंडस्केप, लोकेशन  और समूची पृष्ठभूमि को तैयार करने में उपन्यासकार का घोर परिश्रम दिखता है -अजनबी दुनिया के अजनबी लोग ,अजनबी वस्तुएं ,बोलते बतियाते स्मार्ट घर ,पुष्पक विमान सरीखा  अनुभूतियों से युक्त यान लिंक्स,बुद्धिमान खिलौने -जैसे एक जी एम तोता जो उपन्यास की मुख्यधारा का पात्र बन जाता है ,विष वृक्ष जिसके दंश हाथी तक मार डालने में सक्षम हैं -लाहू द्वीप तक जाने के लिए होलोग्राफिक इमेज प्रक्षेपण तकनीक ,वहां की जी एम शार्कें -यह सब एक आश्चर्यलोक की सैर से कम नहीं है -आज भी कहाँ हैं वजूद में ऐसी दुनिया? 

उपन्यास के बहुल पात्र और उसकी वैश्विक भाषा (यह कहने भर को अंगरेजी का उपन्यास है ) -संस्कृत ,जर्मन ,स्वीडिश ,हिन्दी .और हाँ कथा माध्यम के रूप में मौजूद अंगरेजी इस उपन्यास में समेकित होकर 'अनेकता में एकता' का ही मानों भारतीय उद्घोष करते हों मगर वस्तुतः  एक वैश्विक साहित्य का प्रतिमान /मानदंड भी प्रस्तुत करते हैं .कथानक बच्चों के मिलने जुलने और उनके कोमल अनुभव संसार से आरम्भ होकर विस्तार पाता है -जो शायद लेखक के बचपन के ही अवचेतन के तमाम पृष्ठों का ही  खुलते जाने जैसा लगता है -   संवाद शैली ही कथा प्रवाह का मुख्य शिल्प है .
सचमुच एक बेजोड़ कृति  

Thursday, February 4, 2010

Just Arrived :The Beast with Nine Billion Feet

Just Received

The Beast with Nine Billion Feet

Anil Menon
Zubaan Books
260 pp pbk

ISBN 9788189884390
Publisher:Zubaan Books
The book is just received,not read  but the very title and a bird eye  view  evoke some eerie feelings as if it is in tradition of the fables depicting  mythological characters  like 'Sahstrbaahu' -the one having thousands hands.It has to be seen how the learned author has blended the myth and sf in his debut sf novel.

Full review later.
The book is also available at